अपनी भाषा में ही अच्छी तरह से अभिव्यक्त की जा सकती है

0
279
लोकल  इंदौर 17 सितम्बर । जो भी आप सोचते है उसे अपनी भाषा में ही अच्छी तरह से अभिव्यक्त कर सकते हैं, हिन्दी के सप्ताह और पखवाडे मनाने की भावना वैसी ही है जैसे हम हमारे जन्मदिन मनाते हैं ताकि हमें हिन्दुस्तानी होने का एहसास होता रहे।
ये विचार इंदौर बीएसएनएल द्वारा आयोजित हिन्दी पखवाडे के समापन के अवसर पर विभाग के वरिष्ठ महाप्रबन्धक गणेशचन्द्र पाण्डेय ने व्यक्त किए। उन्होंने कहा कि कहा कि मनुष्य की सोचने समझने और विचारने की क्षमता को बार-बार दोहराया जाना आवश्यक है और यह कार्य हिन्दी में ही बेहतर रूप से किया जा सकता है।
  विभाग द्वारा हिन्दी पखवाडेÞ पर आयोजित विभिन्न स्पर्धाओं के विजेताओं को पुरूस्कृत करते हुए श्री पाण्डेय ने कहा कि पुरूस्कार जीतना एक प्रक्रिया है मगर स्पर्धा मे शामिल होने की पहल करना उस प्रक्रिया की शुरूआत है ।पखवाड़े का समापन कवि गोष्ठी के साथ हुआ जिसमें गजानन्द ढबली, राम तिवारी, प्रकाश शर्मा, श्याम यादव, केसरीसिंह चिडार, के़ सी़ खण्डेलवाल, अशोक चतुर्वेदी, शाहिद खान, आदि कवियों ने अपनी रचनाओं से श्रोताओं को आनन्दित किया ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here