अपने जिस्म के ग्राहकों को लिए बदल लिया उन्होंने अपना रहन-सहन

0
1624

लोकल इंदौर २५ मार्च .  देश में आई संचार क्रांति के चलते उन्होंने  अपने जिस्म के ग्राहकों को  लिए  बकायदा अपना रहन-सहन बदल लिया है . उनके पास अब हाईटेक मोबाईल है . उनमे पोर्न फ़िल्में है . वाट्स एप  पर भी वे आपने ग्राहकों के लिए उपलब्ध है .शाम ढलने से लेकर दिन के उजाले तक में जिस्म की मंडी हर दिन खुलेआम सरेबाजार सजती है।

 रतलाम, मंदसौर और नीमच जलों में बांछड़ा समुदाय की करीब दो हजार लडकियां जिस्मफरोशी के इस धंधे से जुड़ी हुई है।’ यहां जो बदलाव दिखाई देता है, वो कुछ अलग किस्म का है। डेरे औऱ वे कमरे जहां जिस्म फरोशी होती है, हाईटेक हो गये है। लड़कियां अब सलवार- कुर्ता या घाघरा-चोली की जगह शहरी लड़कियों की तरह जीन्स-टी शर्ट औऱ स्लीव लेस पहनने लगी हंै। उनकी केश सज्जा भी आधुनिक हो गई है। इन लड़कियों के पास स्मार्ट फोन औऱ नेट पैक भी होता है। यहां ग्राहकों को अश्लील फिल्में भी दिखाई जाती हैं। बगैर पढ़ी लिखी लड़कियां बहुत आराम से स्मार्ट फोन चला लेती है। यहीं नहीं कच्ची उम्र की लड़कियों की फरमाईश पर ग्राहकों को वाट्स एप के जरिये लड़कियों के फोटो भी दिखाये जाते हैं। लड़कियां ब्रान्डेड शराब और बीयर पीने लगी हैं।

 यहां डेरा चलाने  वाली महिलाओं से बात करने पर पता चला, कि पुलिस को यहां से हफ्ता दिया जाता है। यही नहीं खुद पुलिस के लोग भी इनसे मिली भगत कर  कई बार मालदार ग्राहकों को बंद करने के नाम पर पैसा छीन ले जाते हैं। यही वजह है, कि रतलाम से लेकर चित्तौड़ तक जिस्म की मंडी हर दिन इसी तरह गुलजार रहती है।रतलाम-मंदसौर से लौटकर रश्मि पुष्पेन्द्र वैद्य

लोकल इंदौर का एप गूगल से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें... 👇 Get it on Google Play

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here