इंदौर में खजराना गणेश को बांधी सबसे बड़ी राखी

0
61

लोकल इंदौर 15 अगस्त। इस बार रक्षा बंधन पर्व पर इंदौर के खजराना गणेश मंदिर में भगवान को वैदिक राखी अर्पण की गई। 45 बाय 45 इंच की गोलाकार इस वैदिक राखी के केंद में चारो वेद ऋग्वेद,यजुर्वेद,सामवेद व अथर्ववेद के साथ उपवेद धनुर्वेद, गांधर्ववेद, आयुर्वेद व स्थापत्यवेदको एक गोल आकार में महामृत्युंजय मंत्र और गीतोपदेश के बीच दर्शाया गया है।

राखी के निर्माता जारी गोटा व्यवसायी पुण्डरीक पालरेचा ने बताया कि वैदिक ऋचाओ का उच्चारण करती यह वैदिक राखी अखंड भारत को दर्शाती नजर आएगी। राखी जम्मू कश्मीर, लद्दाख सहित भारत के सभी राज्यो को अपने मे समेटे एकता और अखंडता का संदेश देती वैदिककाल के अखंड भारत का दर्शन कराती है।
पालरेचा बन्धु के शान्तु पालरेचा ने बताया कि परिवार के सदस्यों के अलावा 15 अन्य सहायको ने इस राखी के निर्माण में पिछले करीब एक माह से अपना समय, मेहनत व नजरिया देकर इसे तैयार किया है। झिलमिलाती वैदिक राखी के एक गोलाकार भाग में आयुर्वेदिक ओषधियाँ, पूजन सामग्री, प्राकृतिक वस्तुएँ जैसे सोना, चांदी ताम्बा, पीतं, जस्ता, पंच मेवा, पंच रत्न, सप्त धान, केसर कस्तूरी आदि सामग्री का सजावट में समावेश किया गया है।
राखी के निर्माण में गत्ता, फोम, जरी, सलमा सितारे, नग नगीना व डोरी का उपयोग किया गया है।
आपने बताया कि संयोग से इस बार राखी व स्वतन्त्रता दिवस साथ साथ होने के कारण भारतीय ध्वज तिरंगा भी दर्शाया गया है।
पालरेचा बंधु के अनुसार उनके द्वारा खजराना गणेश जी को बड़ी व सुसज्जित राखी अर्पण करने का सिलसिला 7 अगस्त 2003 से प्रारम्भ किया गया। प्रथम पूज्य विध्नहर्ता की कृपा से यह वर्ष 17वा वर्ष है। आपने बताया कि खजराना के अलावा इसी तरह की राखी महाकाल बाबा उज्जैन, चिंतामन उज्जैन सीधी विनायक मुम्बई, दगड़ू गणेश जी पूना व इंदौर के पंचकुइया छेत्र में वीर अलीजा भगवान को भी अर्पित की गई है।

 

 

 

लोकल इंदौर का एप गूगल से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें... 👇 Get it on Google Play

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here