नौ हजार में भगोरिया उत्सव दिखाएगा टूरिज्म विभाग

0
2407

544138_458483684224527_579573746_nलोकल इंदौर विशेष 17 मार्च ।अपनी अदिवासी भील संस्कृति और सभ्यता के लिए विख्यात प्रदेश के झाबुआ अलीराजपुर में आयोजित किए जाने वाले भगोरिया मेलों को देश और विदेश को पर्यटको को दिखाने के लिए मध्यप्रदेश राज्य पर्यटन विकास निगम ने विशेष पैकेज तैयार किए है और आलम ये है कि आगामी 21 मार्च से 26 मार्च तक आयोजित पारम्परिक भगोरिया उत्सव के लिए निगम के सारे होटल बुक हो गए है।

होली के पहले विभिन्न स्थानों पर हाट-बाजारों में पारम्परिक भगोरिया उत्सव आगामी 21 मार्च से 2 6मार्च तक आयोजित किया जा रहा है। इस बार भगोरिया को प्रमोट करने के लिए मध्यप्रदेश राज्य पर्यटन विकास निगम ने विशेष पैकेज भी बनाया है। जिसके तहत देशी और विदेशी पर्यटकों को झाबुआ के इस विशेष होली के आयोजन से पर्यटकों को रुबरु कराया जाएगा ।
देश विदेश में प्रसिद्ध हुआ भगोरिया
भगोरिया वास्तव में एक सामूहिक स्वयंवर के स्वरूप का जनजातीय उत्सव है। यह वस्तुत एक दिन का उत्सव न होकर उत्सवों की एक श्रृंखला है। भगौरिया का आयोजन विभिन्न गाँवों में हाट-बाजार के दिन होता है। उत्सव फसल कटाई के बाद होता है। इससे इसके स्वरूप में कृषि महोत्सव का रंग भी जुड़ जाता है। फसल अच्छी होने पर उत्सव का रंग और उत्साह कई गुना बढ़ जाता है। जिसका आनंद लेने के लिए देश ही नहीं वरन विदेशो के पर्यटक भी इस आदिवासी रंगो से भरे त्योहार को निहारने यह तक पहुंच जाते है। इसे देश विदेश में अच्छा प्रतिसाद भी मिल रहा है ।
तीन दिन चार रात का टूर
पर्यटन विभाग ने इस उत्सव को देखने का आनंद लेने के लिये पर्यटकों को एक विशेष पैकेज की पेशकश की है।पर्यटन विभाग के क्षेत्रिय प्रबंधक एम एन जमाली ने लोकल इंदौर को बताया कि पर्यटन विभाग विभाग ने 8990 रुपये का पैकेज तैयार किया है, जिसमें 3 रात के पैकेज में इंदौर से झाबुआ आने जाने के साथ ही झाबुआ, अलिराजपुर, और बखतगढ़ का भगोरिया मेला दिखाया जाएगा। इस पूरे पैकेज में लाजिंग, केटरिंग, ट्रांसपोर्ट और साइट विजिट को भी शामिल किया गया है।
इसमें
परिणय पर्व है भगौरिया
भगोरिया मेले की पंरपरा के अनुसार जनजातीय युवक अपनी जीवन-साथी का चयन कर प्रतीकात्मक रूप से भाग जाते हैं। बाद में उन्हें निर्धारित सामाजिक रीति-रिवाजों के अनुसार समाज द्वारा पति-पत्नी के रूप में स्वीकार कर लिया जाता है। उत्सव की परम्परा के अनुसार लड़का अपनी पसंद की लड़की के चेहरे पर हाट-बाजार में ही गुलाल लगा देता है। यदि लड़की भी उसके साथ विवाह करना चाहती है तो वह भी लड़के के गालों पर गुलाल मल देती है। जरूरी नहीं है कि लड़की राजी होने पर लड़के के गालों पर तत्काल गुलाल लगा दे। कई दफा यह तत्काल नहीं होता। लड़के को लड़की को राजी करने में मान-मनौव्वल का सहारा लेना होता है। लड़का धीरे-धीरे उसे राजी कर लेता है और अंतत सफल हो ही जाता है।

इनका कहना है ……………………..
प्रदेश के झाबुआ जिले का पारंपरिक परिणय पर्व भगौरिया देश विदेश में प्रसिद्ध है। इसके लिए दूर-दूर से पयर्टक आते है। टूरिस्टों की सुविधा के लिए विभाग ने विशेष पैकेज तैयार किया है। इसमें तय शुल्क में सभी सुविधाए प्रदान की जाएगी। बीते वर्ष इस पैकेज को स्थानीय और देश में घूमने आए विदेशी नागरिको ने बहुत पंसद किया था। इस वर्ष भी तैयारियां की गई है।
एम एन जमाली
क्षेत्रिय प्रबंधक पर्यटन विभाग

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here