बैंकिंग फ्राड के अंर्तराज्यीय गिरोह का पर्दाफाश

0
204

 

इन्दौर  18 अप्रैल | वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक इंदौर श्री ए.साई मनोहर ने बताया कि विगत दिनों एक्सिस बैंक व आई.डी.बी.आई. बैंक के अधिकारियों ने इंदौर पुलिस के वरिष्ठ अधिकारियों से मिलकर कथित बैंक खातों के संबध में शिकायत की थी जिस पर उन्होंने जांच हेतु क्राईम ब्रांच अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक श्री मनोज कुमार राय को पाबंद किया जिनके द्वारा उपपुलिस अधीक्षक जितेन्द्रसिंह के नेतृत्व में टी.आई. जयंत राठौर की टीम गठित कर जांच आरंभ की ।

उक्त टीम ने जब अपनी पडताल आरंभ की तो इस जालसाज गिरोह के कई सदस्य पुलिस के हत्थे चढे व उनसे चौकाने वाले खुलासे हुऐ । इस गिरोह के सदस्य तौसिर निवासी आजाद नगर व नवेद निवासी नंदलाल पुरा जो  मूलतः क्रमशः एयरकंडिशनर व कम्प्यूटर मेकेनिक है उन्होंने आजाद नगर व खजराना के निम्न मध्यम वर्ग के युवकों का उपयोग कर उन्हें लालच देकर सही व फर्जी नाम पतों से लगभग दो दर्जन बैंकिंग खाते इंदौर शहर के बैंकों में खुलवाये । इन खातों से लाखों रूपये हैं कि मनीलांड्रिग के जरिये डालकर इंदौर के युवकों का इस्तेमाल कर चैक व ए.टी.एम. की मदद से नवैद ,तौसिर ,अबरार ,याकूब ,फिरोज ,आसिर ,अजहर ,समीर ,इमरान आदि के जरिये खोले गये खातों से निकाले गये ।
मोहम्मद अराफात द्वारा गणपत यादव के नाम से 5 खाते खुलवाये गये जो कि पंजाब नेशनल बैंक मनोरमागंज शाखा ,आई.डी.बी.आई. बैंक अन्नपूर्णा शाखा ,एच.डी.एफ.सी. बैंक अन्नपूर्णा व ढक्कनवाला कुऑ शाखा व आई.सी.आई.सी.आई. बैंक न्यू पलासिया शाखा में थे व आसिफ द्वारा आशीष पिता चिंरोजीलाल के नाम से 2 खाते खुलवाये जो कि एक्सिस बैंक वाय.एन. रोड शाखा व आई.सी.आई.सी.आई. बैंक सपना संगीता शाखा में थे ।
इन खातों से अवैध निकासी के एवज में तौसिफ व नवैद को प्रति 2 लाख रूपये की निकासी पर 25 हजार रूपये मिले व उन्होंने इस कार्य हेतु कई बार मुंबई की भीयात्राऐं की।
इंदौर पुलिस ने आई.डी.बी.आई. व एक्सिस बैंक अधिकारियों की शिकायत पर थाना तुकोगंज पर अपराध क्रमांक 279/12 धारा 419,420 भादवि व 66 आई.टी. एक्ट व थाना संयोगितागंज में अपराध क्रमांक 480/12 धारा 419,420 भादवि व 66 आई.टी. एक्ट का प्रकरण दर्ज कर विवेचना में लिया है । आरोपियों से कई ए.टी.एम. कार्ड भी बरामद हुऐ है ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here