महिला आयोग जाँच करने गया था या फैशन परेड में भाग लेने -कैलाश विजयवर्गीय

0
174

लोकल इंदौर 20 जुलाई ।गुवहाटी में युवती के साथ हुई सामुहिक बदसलूकी की शमर्नाक घटना की जाँच के लिए पहुंचे राष्ट्रीय महिला आयोग के दल पर उद्योग मंत्री कैलाश विजयवर्गीय ने सवाल खड़े किए हैं। विजयवर्गीय ने कहना है  जिस प्रकार ग्लैमरस अंदाज में आयोग की सदस्याएं मामले की जाँच करने पहुंची, उससे तो ऐसा लगा माना वे खुद भी  फैशन परेड का हिस्सा है। उन्हें  भी  अपना आचरण सुधारना चाहिए । विजयवर्गीय ने कांग्रेस के निष्कासित विधायकों की  बहाली के संकेत दिए है।

इंदौर प्रेस क्लब में संवादाताओं से चर्चा करते हुए बताया कि महिला आयोग अर्ध न्यायिक संस्था है उस के सदस्यों के आचरण पर उद्योग मंत्री कैलाश विजयवर्गीय ने आपत्ति जताई है। गुवहाटी में युवती के साथ हुई शमर्नाक घटना की जाँच करना पहुंचा महिला आयोग का दल खूद ग्लैमर की चकाचौंध में डूबा हुआ है। उद्योग मंत्री कैलाश विजयवर्गीय का कहना है कि वे आयोग का पूरा सम्मान करते है, लेकिन इस तरह के मामलों की जाँच करने पहुंचे दल को  अपनी गरिमा और मर्यादा को ध्यान में रखना चाहिए।
विजयर्गीय ने राष्ट्रीय महिला आयोग की अध्यक्ष ममता शर्मा के उस बयान को भी गलत ठहराया जिसमें शर्मा  ने युवतियों के साथ हो रही शमर्नाक घटनाओं की वजह उनके जींस पहनने का बताया था। विजयवर्गीय ने इससे इंकार करते हुए कहा कि युवतियों, महिलाओं का पहनाया काले ही फैशनेबल हो लेकिन शालिन, मर्यादीय होना चाहिए। युवतियों का आचरण  ठीक हो अमर्यादीत तरीके से घुमना  फिरना, अमर्यादीत पहनावा एवं अमर्यादीत व्यवहार ही इस तरह की घटनाओं का बढ़ावा देता है। इसलिए महिलाओं का मर्यादित होना बहुत जरूरी है।
निष्काशन वापसी के संकेत
कांग्रेस के दोनों विधायकों की विधाययकी रद्द करने के मुद्दे पर विजयवर्गीय ने कहा कि इस मामले में सरकार पुनविर्चार कर रही है। जिसके लिए तीन सदस्यीय कमेटी बनाई गई  है वह निर्णय लेगी लेकिन विपक्ष  जिद  पर अड़ा हुआ है,

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here