विज्ञान को अध्यात्म से जोडकर शिक्षा प्रदान करें–राज्यपाल

0
247

विश्‍वशांति गुरूकुल स्कूल की शुरूआत

लोकल इंदौर 11 मार्च . राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने डॉ.विश्‍वनाथ कराड विश्‍वशांति गुरूकुल स्कूल का उद्घाटन करते हुये कहा कि आज विज्ञान को अध्यात्म से जोडे जाने की जरूरत है. तभी विद्यार्थी को सही शिक्षा मिल पायेगी. वर्तमान दौर में विद्यार्थी को संस्कारवान शिक्षा की जरूरत है. उन्होने ने कहा जर्मन में कुछ स्कूलों में बच्चों को गर्भ से शिक्षा और संस्कार शुरू कर दिये जाते है. इसलिए बच्चों की शिक्षा की शुरूआत गर्भवती महिलाओं से होनी चाहिए. यह साबित भी हो चुका है कि बच्चे गर्भ से ही सिखना शुरू कर देते है. इसलिए गुरूकुल स्कूल में उन महिलाओं की शिक्षा शुरू होनी चाहिए जो गर्भवती है. उन्हें सिखाए, पढांए और खानपान का ध्यान रखे. जिससे बच्चों का मानसिक और शारीरिक विकास बेहतर होगा.

गत दिनों आयोजित कार्यक्रम की अध्यक्षता माइर्स एमआइटी के संस्थापक अध्यक्ष तथा युनेस्को चेयर होल्डर प्रा.डॉ. विश्‍वनाथ दा. कराड ने की. इस मौके पर एमआइटी वर्ल्ड पीस युनिवर्सिटी के कार्याध्यक्ष प्रा. राहुल विश्‍वनाथ कराड भी उपस्थित थे.

राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने कहा कि इंदौर में एक नए स्कूल की शुरूआत हो रही है. तीन साल के छोटे बच्चों इस शिशू मंदिर में पढने आएंगे. बच्चा जब गर्भ में रहता है तभी से उसकी शिक्षा की शुरूआत होनी चाहिए. परिवार के लोग मां का ध्यान रखे. मां को अच्छा भोजन मिले. महिलाएं अध्यात्मिक किताबे, रामायण पढे. इससे बच्चा समझदार होगा.

प्रा.डॉ.विश्‍वनाथ दा. कराड ने कहा गुरूकुल में विज्ञान और अध्यात्म के समन्वय से छात्रों का सर्वांगीण विकास होगा. स्कुल में उन्हें चारित्रवान व सर्वगुण संपन्न व्यक्ति बनाने का प्रयास करेंगे. यहां गुरू के सानिध्य में छात्रों के भविष्य का निर्माण होग. मां से हमें प्यार मिलता है लेकिन गुरू जीवन की शिक्षा देता है. यहां छात्रों को मानवतावादी व सहिष्णु बनाया जाएगा. वहीं पारंपारिक शिक्षा के साथ ही छात्रों के गुणों को पहचानकर उनका विकास किया जाएगा. युवा पीढि में भारतीय अष्मिता जगाने का प्रयास करेंगे. विश्‍व शांति गुरूकुल के जरिए भारतीय संस्कृति, परंपरा और दार्शनिकज्ञान का संदेश सारी दुनिया में पहुंचाया जाएगा.

प्रो.राहुल विश्‍वनाथ कराड ने कहा कि भविष्य में यह स्कूल देश में रोल मॉडेल के रूप में उभरकर आएगा. यहां अनूठे छात्र तैयार किए जाएंगे. जिन्हें नया दृष्टिकोन रखते हुए एक आदर्श व्यक्ति के साथ मजबूत व भावनात्मक बनाया जाएगा. यहां के छात्रों को शांति दूत बनाने का हमारा लक्ष्य है.

इस मौके पर सुश्री उर्मिला विश्‍वनाथ कराड, प्रा.स्वाती कराड चाटे, मराठी समाज के चेयरमैन एडवोकेट अशोक चितले, पूर्व कुलपति प्रो. निशा दुबे, इंदौर डिविजनल क्रिकेट एसोसिएशन के चीफ कोच योगेश जगदाले, डीएनआर कार्पोरेशन प्रा.लि. के डायरेक्टर रीतेश कुमत, डब्ल्यूएचओ के सलाहकार डॉ. चंद्रकांत पांडव तथा डॉ.एस.एन.पठाण, स्कूल डायरेक्टर रिचा त्रिपाठी, प्रोजेक्ट मैनेजर प्रेम मेहता, पूर्व विधायक करण सिंह पवार आदि उपस्थित थे.

लोकल इंदौर का एप गूगल से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें... 👇 Get it on Google Play

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here