शहीद की पत्नी को दिया मकान तोहफे में ;हथेलियों पर चला कर कराया गृह प्रवेश

0
91

लोकल इंदौर १६ अगस्त .इंदौर के बेटमा तहसील में युवाओं ने एक ऐसा काम कर दिखाया जिसे देख कर लोगों का सीना गर्व से फूल गया दरसल युवाओं ने 31 दिसंबर 1992 को असम में शहीद हो गए सीमा सुरक्षा बल के जवान मोहन सिंह सुनेर के परिजनों को 11 लाख की लागत से पक्का  मकान बना कर उन्हें लोकार्पित किया ,इतना नही नही शीद की पत्नी से युवाओं ने राखी बधाई और अपनी हथेलियों पर चल कर गृहप्रवेश करवा .

सीमा सुरक्षा बल के जवान मोहन सिंह सुनेर 27 साल पहले असम में शहीद हो गए थे। उनका परिवार अब तक झोंपड़ी में गुजर-बसर कर रहा था। गांव के कुछ युवाओं ने उन्हें पक्का मकान देने के लिए एक अभियान ‘वन चेक-वन साइन’ चलाया जिसमें देखते ही देखते 11 लाख रुपये जमा हो गए।गांववालों ने इसमें से 10 लाख रुपये से शहीद के परिवारवालों के लिए एक मकान तैयार कराया और 73वें स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर शहीद की पत्नी को गृहप्रवेश भी करवाया।बचे हुए एक लाख रुपये से मोहन सिंह की प्रतिमा को तैयार किया गया है।

असम में तैनात थे मोहन सिंह
सुमेर सिंह असम में पोस्टिंग के दौरान 31 दिसंबर 1992 को शहीद हो गए थे। उनका परिवार तब से झोंपड़ी में रह रहा था। जब वे शहीद हुए उस समय उनकी पत्नी गर्भवती थीं और उनका एक तीन साल का बेटा भी था।

लोकल इंदौर का एप गूगल से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें... 👇 Get it on Google Play

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here