सुरों ने जगाई इंदौर को स्वच्छ बनाने की अलख!  – सौ टंच में हेमंत पाल 

0
390
  जब भी गीत, संगीत और फिल्मों के अवार्ड्स का मौसम आता है तो अकसर बातचीत में जिक्र होता है कि इस साल कौनसा गीत सबसे ज्यादा सुना गया या कौनसी फिल्म सबसे ज्यादा पसंद की गई! इस साल इंदौर में सोशल मीडिया पर ये जोक्स खूब चला कि इंदौर में सबसे ज्यादा सुना जाने वाला गीत वो है जो कचरा इकट्ठा करने वाली गाड़ियों में अलसुबह से देर रात तक बजता सुनाई देता है। बात सही भी है। इस गीत को सुन-सुनकर लोग भले ही बोर हो चुके हों, पर कैलाश खेर और शान के गाये इन दो गीतों ने इंदौर में सफाई के प्रति लोगों को जागरूक तो किया! सफाई के मामले में आज इंदौर देश में नंबर-वन जरूर है, पर ये सब आसान नहीं था। ‘स्वच्छ सर्वेक्षण 2017’ के तहत 434 शहरों की स्वच्छता रैंकिंग में पहली पायदान पर इंदौर का पहुँचना कड़ी मेहनत का नतीजा है।
  इंदौर कभी इतना साफ़ हो सकता है कि उसे देश में सबसे ज्यादा साफ़ शहर का तमगा मिल जाए, ये बात कुछ साल पहले तक ये बात गले नहीं उतरती थी। सड़कों के किनारे लगे कचरे के ढेर, सड़क पर उड़ती पॉलीथिन, धूल और पेड़ों से गिरे सूखे पत्तों से भरी सड़कें शहर की पहचान बन गई थीं। इसके अलावा जो गंदगी होती है, उसके तो क्या कहने! लेकिन, सफाई का काम तब भी होता था, पर सिर्फ दिखावे के लिए!
    किसी शहर की सफाई व्यवस्था का गीत-संगीत से क्या सीधा संबंध हो सकता है! इस सवाल का जवाब देने में किसी को शायद वक़्त लगे, किंतु इंदौर के लोग जानते हैं कि ये जागरूकता फैलाने का सबसे बड़ा माध्यम बना! शहर के हर घर के दरवाजे से कचरा इकट्ठा करने के लिए सुबह से देर रात तक चलने वाली साढ़े तीन सौ से ज्यादा गाड़ियों पर बजते दो खास गीतों ने इंदौर को देश का सबसे साफ शहर बनाने में अहम भूमिका निभाई है। कुछ महीनों से तो सुबह लोगों की आँख इन्हीं गीतों को सुनकर खुलती है। शहर को स्वच्छ रखने के लिए ये गाड़ियां गली-मोहल्लों और सड़कों के फेरे लगाती रहती हैं। धीमी गति से गली-गली में घूमती और घर के सामने रूकती इन गाड़ियों में बजता कैलाश खेर का गाया ‘स्वच्छ भारत का इरादा कर लिया हमने’ और शान की आवाज में ‘हल्ला-हो हल्ला … इंदौर को स्वच्छ बनाना है, अब हमने ये ठाना है’ बजता रहता है। बच्चों से लेकर बड़ों तक को इन दोनों गीतों के बोल रट गए हैं।
  इन ‘सुरीले’ सफाई वाहनों के चलाए जाने के पीछे एक व्यावहारिक कारण है, जिससे देश के कई छोटे-बड़े शहर जूझ रहे हैं। समस्या ये थी कि लोग अपने घरों से रोज निकला कचरा कहाँ फेंके? क्या सड़कों किनारे लगी कचरा पेटियों डालें या किसी खाली पड़ी किसी जमीन पर? अभी तक यही हो भी रहा था! इसी का हल इन गाड़ियों से निकला, जिनसे घरों का कचरा जमा करके सीधे शहर बाहर ट्रेंचिंग ग्राउंड में फेंका गया! लोगों को गाड़ियों के आने की सूचना मिल जाएं, इसके लिए उनमें गाने बजाये जाने लगे!
  इंदौर में साफ़-सफाई की ये बड़ी उपलब्धि भी राजनीति से मुक्त नहीं रह सकी। शहर के पूर्व महापौर कृष्णमुरारी मोघे ने इसका श्रेय सफाई कर्मचारियों को देते हुए इसे अपने कार्यकाल से जोड़ने में भी संकोच नहीं किया। इंदौर को मिली राष्ट्रीय स्तर की उपलब्धि पर उनका कहना था कि जब मैं महापौर बना था, तब साफ़-सफाई के मामले में इंदौर का नंबर देश में 271वां था। मैंने सफाई व्यवस्था में सुधार किया। जिसका नतीजा यह रहा कि इंदौर देश में 25वें स्थान पर पहुंच गया। वे यहीं नहीं रुके और कहा कि शहर को देश में पहले स्थान तक पहुंचाने में सफाईकर्मियों का बड़ा योगदान है। उनका नागरिक अभिनंदन किया जाना चाहिए।
   यहाँ तक तो ठीक है पर मोघे जो बोल रहे है उसमें कितनी सच्चाई है, ये भी परखा जाना चाहिए। कृष्णमुरारी मोघे का महापौर पद का कार्यकाल 10 जनवरी 2015 को समाप्त हुआ था। 2014 मे इंदौर 149वें स्थान पर था। वर्तमान महापौर मालिनी गौड़ ने फरवरी 2015 में शपथ ली। इसके बाद सर्वे के जो नतीजे आए उसमें इंदौर को 61वां स्थान मिला। 2016 में इंदौर 25वें स्थान पर तथा 2017 में देश में पहले स्थान पर आया!
000
(लेखक ‘सुबह सवेरे’ इंदौर के स्थानीय संपादक हैं)

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here