आह अंग्रेजी यह तूने क्या किया…….. दिलीप मिश्रा की कविता

0
103

 आह अंग्रेजी यह तूने क्या किया l                                                                                              जो थी  पुरखों की कमाई लियाll                                                                                            बदल दी दुनिया, बदल गए मौसम l                                                                                           तेरी फितरत में उलझ गए हम ll

 कभी पत्नी थी फिर वह बीवी भी थी l                                                                                          जिस्म से लिपटी हुई टीबी  भी थी  ll                                                                                             जब से बदले ख्याल वाइफ हो गयी l                                                                                      जिंदगी थी अब वह लाइफ हो गई ll

 खा  गई तहजीब अंग्रेजी मुई l                                                                                              पुश्तों  की सब खासियत गायब हुई ll                                                                                          कभी जो मां थी वह मम्मी हो गई l                                                                                                शारदा माई  अब शम्मी हो गई ll

 पुत्र पुत्री बाबा बेबी  हो गए l                                                                                                 जीजा साली ब्रदर इन लॉ हो गए l                                                                                            जल जो जीवन था वह वाटर हो गया l                                                                                            अपना तो जीते जी मर्डर  हो गया ll

 धोती कुर्ता का गया हो स्वर्गवास l                                                                                               हमको जचने  लगा अंग्रेजी लिबास ll                                                                                        क्या कहें मगरिब  ने  क्या ढाया सितम l                                                                                    मशरिकी  लोगों के हो गए होश गुम ll

जो था भारत वह हो गया इंडिया l                                                                                           नारी बनकर खेलता है डांडिया ll                                                                                              बंधु यह  आजादी लेकर क्या करें l                                                                                                अपनी छाती आप ही पीटा करें ll

दिलीप मिश्रा बंधू                                                                                                            93293  83048 

लोकल इंदौर का एप गूगल से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें... 👇 Get it on Google Play

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here