Corona: तीसरी लहर सामने : बेपरवाह हो चले इंदौर के लोग

तीसरी लहर को लेकर लोगों में न तो चिंता दिख रही है और न ही बचने के प्रयास

0
615
 लोकल इंदौर 8 अगस्त l  ऑक्सीजन सिलेंडर की मारामारी , अस्पताल में बेड के लिए दौडभाग । श्मशानों पर कतार में जलती चिताएं। सब भूल गए। एक तरफ सरकार, वैज्ञानिक और डाक्टर तीसरी लहर के लिए चेता रहे हैं तो दूसरी तरफ लोग बेपरवाह हो चले हैं।
प्रदेश की आर्थिक  राजधानी इंदौर में  यह सब नजारे गुजरे ज्यादा दिन नहीं हुए है फिर भी अब  कदम-कदम पर कोरोना  गाइडलाइन का उल्लंघन किया जा रहा है। तीसरी लहर को लेकर लोगों में न तो चिंता दिख रही है और न ही बचने के प्रयास। शहर में चल रही लापरवाही को रोकने के लिए जिम्मेदारों ने भी दूरी बना ली है। ऐसे में शहर में तीसरी लहर का खतरा मंडराने लगा है।
 शहर में दूसरी लहर के दौरान सभी हाट बाजार बंद कर दिये गये थे। कारण- भीड़ जमा होने से संक्रमण फैलने का खतरा था। अब सभी हाट बाजार खोल दिये गये हैं। एक स्थान पर दो सौ से अधिक व्यापारी और एक हजार से अधिक लोग खरीदारी करने वाले इस पर सोशल डिस्टेंसिंग भगवान भरोसे रहती है। मास्क भी व्यापारी तो पहनते नहीं हैं। खरीददार भी कुछ मास्क लगाते हैं तो कुछ खानापूर्ति करते हैं।

Twitter : ट्विटर के हीरो हैं हमारे पीएम, जीरो है हमारे एमपी ?

ग्राहकों की भीड़ बढ़ते ही भूले कोविड नियम : कोरोना की दूसरी लहर में लगे कोरोना कर्फ्यू के कारण व्यापारियों को खासी दिक्कत का सामना करना पड़ा था। व्यापारी संघों ने भी सरकार से जल्द से जल्द बाजार खोलने की गुहार लगाई थी। वादा किया था कि कोविड गाइडलाइन के नियम मानेंगे। हकीकत में वादे तो दूर अब  तो बिना मास्क के ही ग्राहकों को एंट्री दी जा रही है।  किराना, कपड़ा, थोक से लेकर सराफा और मॉल में भीड़को देखने के बाद कोविड गाइडलाइन को अनदेखा किया जा रहा है। यह हालात सभी बड़े से लेकर छोटे बाजारों में देखे जा सकते हैं।

वैक्सीनेशनः 43 हजार का टारगेट, 26 हजार 328 को ही लगे टीके

इंदौर | स्वास्थ्य विभाग ने सोमवार को 43 हजार लोगों को टीका लगाने का लक्ष्य रखा, लेकिन 26 हजार 328 लोगों को ही टीके लग सके। 16 हजार से ज्यादा लोगों को टीके का पहला डोज लगा। बीते तीन चार दिन से तय टारगेट की तुलना में कम लोग टीका लगवा रहे हैं। स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों के मुताबिक, सोमवार को 122 टीकाकरण सत्र का आयोजन हुआ था।


ऑटो और बसों में भरी जा रही सवारी  ऑटो और ने बसों में सीमित संख्या में सवारी बैठाने के निर्देश जारी किये गये थे, कुछ समय तो इसका पालन हुआ, लेकिन छूट  मिलने के बाद संख्या से अधिक सवारी बैठाने का – सिलसिला शुरू हो गया। यह नजारा शहर में कहीं भी देखा  जा सकता है। खासतौर में ऑटो, मैजिक और  में ठूंस ठूंस कर सवारियाँ बैठाई जा रही है।
सीएम भी जता चुके हैं चिंता : कोरोना की तीसरी लहर को लेकर पिछले दिनों मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहन भी चिंता जता चुके हैं। उन्होंने इंदौर में बढ़ते केस के बाद सभी से कोविड गाइडलाइन का पालन करने की अपील की थी। साथ ही अफसरों को कार्रवाई के निर्देश दिये थे। बावजूद इसके  कहीं सख्ती कहीं नजर नहीं आ रही है। जिन्हें इसके पालन कराने की जिम्मेदारी दी गई थी, अब यो नजर ही नहीं आते हैं।
लोकल इंदौर का एप गूगल से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें... 👇 Get it on Google Play

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here