इंदौर में 98 क्षेत्रों में अब एफएआर बिल्डरों को बेचा जा सकेगा

0
96
लोकल इंदौर १२ जून। मास्टर प्लान में शामिल सड़कों के लिए निजी जमीनों के अधिग्रहण के बाद जमीन मालिकों को वहां बची शेष जमीन पर निर्माण के लिए अतिरिक्त एफएआर मिलता है। इसमें सरकार ने एक और सुविधा दी है जिसके अनुसार जिस जगह पर जमीन योजनाओं में शामिल की गई है उसके आलावा अन्य क्षेत्रों के लिए भी उसका लाभ मिलेगा। इसके लिए नगर एवं ग्राम निवेश संचालनालय द्वारा इंदौर के करीब 98 क्षेत्रों में यह सुविधा दी जा रही है। इससे उन लोगों को लाभ मिलेगा जिनकी सड़क चौड़ीकरण में जमीन जाने के बाद वे एफएआर का उपयोग नहीं कर पा रहे थे।
शहरी सीमा में विकास प्राधिकरण, नगर निगम की सड़कों तथा मास्टर प्लान में शामिल प्रमुख सड़कों के लिए ली जाने वाली जमीन के बदले नगर एवं ग्राम निवेश विभाग द्वारा जमीन मालिक को शेष जमीन पर एक्सट्रा एफएआर मिलता है। इस एफएआर के लिए मिलने वाले टीडीआर सर्टिफिकेट को जमीन मालिक योजना में शामिल जमीन वाले स्थान के आलावा अन्य स्थान पर भी उपयोग कर सकेंगे।
जिन लोगों की जमीनें योजनाओं में शामिल की गई उनकी मांग थी कि जहां जमीन अधिग्रहित की गई है वहां अब उतनी जमीन ही नहीं है कि वहां एफएआर का उपयोग कर सके, इसलिए इसका उपयोग अन्य स्थान पर करने की छूट मिलना चाहिए। जमीन अधिग्रहण में होने वाली कठिनाई को देखते हुए स्थानीय अधिकारी भी इसके पक्ष में थे कि  एक्सट्रा एफएआर का लाभ दूसरी जमीन पर लेने के लिए छूट दी जाना चाहिए। अब संचालनालय नगर एवं ग्राम निवेश विभाग ने एक विज्ञप्ति जारी कर शहर के कुछ चिन्हीत स्थानों की सूची जारी की है। इन स्थानों पर डीडीआर सर्टिफिकेट ट्रांसफर किए जा सकेंगे।
इन क्षेत्रों में मिलेगा लाभ 
एफएआर सर्टिफिकेट का लाभ जिन क्षेत्रों में मिलेगा उनमें तलावली चांदा, अरंडिया, मायाखेड़ी, लसुड़िया मोरी, निपानिया, पीपलिया कुमार, निरंजनपुर, भमोरी दुबे, खजराना, कनाड़िया, पलासिया हाना, पिपलिया हाना, बिचौली मर्दाना, बिचौली हप्सी, टिगरिया राव टिगरिया बादशाह,मुंडला नायता, रालामंडल, बिलावली, लिंबोदी, फतनखेड़ी, मोरोद, कबीटखेड़ी, राऊ , छोटा बांगरदा, शकर खेड़ी, अरंडिया तथा टिगरिया सहित अन्य कई क्षेत्रों के सैकड़ों सर्वे शामिल है।
शहर के बीच भी मिलेगा लाभ
अतिरिक्त एफएआर के लिए टीएनसीपी द्वारा जिन सर्वे नंबरों को शामिल किया गया है उनमें इंदौर छावनी क्षेत्र का सर्वे क्रमांक 407 तथा भागीरथपुरा के पचास से अधिक खसरे तथा भमौरी के चालीस से अधिक खसरों की जमीनें शामिल है।
बेच सकेंगे सर्टिफिकेट
जमीन योजना में जाने के बाद यदि जमीन मालिक व्यक्ति के पास वहां जमीन नहीं बची है तो अतिरिक्त एफएआर के लिए मिलने वाले सर्टिफिकेट को संबंधित व्यक्ति बेच भी सकेगा, जिसका लाभ टीएनसीपी द्वारा मान्य 98 क्षेत्रों के हजारों खसरों की जमीन पर लिया जा सकेगा।
गति पकड़ेगा विकास
एफएआर ट्रांसफर करने से शहर की प्रमुख सड़कों के चौड़ीकरण के साथ विकास कार्य गति पकड़ेगा। एफएआर का स्थान परिवर्तनशील होने से नगर निगम एवं विकास प्राधिकरण की सड़कों के साथ मास्टर प्लान की सड़कों में भी बाधाऐं नहीं आएगी और शहर के विकास का रास्ता खुलेगा।
अधिसूचना जारी 
इस संबंध में नगर तथा ग्राम निवेश संचालनालय भोपाल द्वारा हस्तांतरणीय विकास अधिकारी नियम 2005 के तहत अधिसूचना क्रमांक एफ3-72/201/32 जारी की गई है। इस अधिसूचना में इन्दौर के 98 क्षेत्रों की जमीनों पर अतिरिक्त एफएआर का लाभ लिया जा सकेगा।
लोकल इंदौर का एप गूगल से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें... 👇 Get it on Google Play

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here