Indore News: इंदौर में एनीमिया अवेयरनेस के लिए निकला स्वास्थ्य रथ

0
125
लोकल इन्दौर २८ फरवरी । एनीमिया के बारे में जागरुक करने के साथ ही उसके कारण, दुष्परिणाम, बचाव व इलाज की जानकारी देने के लिए एक स्वास्थ रथ  रविवार को इंदौर में एडवांस्ड होम्योपैथिक मेडिकल रिसर्च एवं वेलफेयर सोसायटी  द्वारा निकाला गया इस रथ को सांसद श्री शंकर लालवानी ने हरी झण्डी दिखा  कर रवाना  किया .उल्लेखनीय है कि प्रतिवर्ष 4 मार्च को विश्व एनिमिया दिवस मनाया जाता है l
आयुष मन्त्रालय के सदस्य एवं एडवांस्ड होम्यो हेल्थ सेंटर के संचालक  डॉ. ए के द्विवेदी ने बताया  कि

यह रथ 28 फरवरी से  4 मार्च तक शहर के कई इलाको में घूमेगा और लोगों को अप्लास्टिक एनीमिया के बारे में जागरूक करेगा। साथ ही  निःशुल्क बुकलेट भी बांटी जायेगी .इस रथ  यात्रा  के 4 मार्च को होने वाले समापन पर   निःशुल्क अप्लास्टिक एनीमिया अवेयरनेस सेमिनार भी आयोजित किया जायेगा। निःशुल्क सेमिनार के लिए रजिस्ट्रेशन कराना अनिवार्य है।

 ये ही इस बीमारी के लक्ष्ण 
कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे डॉ. . द्विवेदी ने बताया कि “दाँतों या मसूड़ों से लगातार खून निकलना, लम्बे समय तक मासिक धर्म की समस्या से ग्रस्त रहना या पाइल्स की वजह से मल में खून आना, इनमें से किसी भी कारण से व्यक्ति अप्लास्टिक एनीमिया का शिकार हो सकता है। कई लोग बुखार, जोड़ों में दर्द या त्वचा की समस्या के लिये चिकित्सक की सलाह लिये बगैर लम्बे समय तक लेते रहते हैं उन्हें भी अप्लास्टिक एनीमिया होने की आशंका ज्यादा रहती है। कीमोथेरेपी के कारण भी एनीमिया होने का खतरा रहता है। हम ऐसी गंभीर बीमारी के बारे में लोगों को जागरुक करना चाहते हैं। यदि लोग शरीर में हिमोग्लोबीन की मात्रा बनाये रखें और नियमित रूप से हीमोग्लोबीन की जाँच करवाते रहें तो एनीमिया जनित अन्य बीमारियों से भी बच सकते हैं।
डाॅ. द्विवेदी की सांसद ने सराहना 
 इस अवसरपर मुख्य अतिथीय उद्बोधन में सांसद श्री शंकर लालवानी ने बताया कि, डाॅ. द्विवेदी चिकित्सा क्षेत्र के माध्यम से समाज सेवा का कार्य निरन्तर करते रहते हैं। उनके इन्हीं प्रयासों से अनेक ऐसे जटिल रोगों से पीड़ित मरीज जो अन्य चिकित्सा प्रणाली से इलाज करा कर, थके हारे होम्योपैथी चिकित्सा को अन्तिम विकल्प के रूप में देखते हुये इलाज कराने आते हैं तथा उन्हें आशानुरूप परिणाम भी मिलता है और वे स्वस्थ होकर जिन्दगी का नया सफर शुरू करते हैं। निश्चित ही डाॅ. द्विवेदी का प्रयास अन्य चिकित्सकों के लिये प्रेरणादायी है।
विशिष्ट अतिथि डाॅ. भूपेन्द्र गौतम ने अपने स्वयं के अनुभव साझा किये आभार माना डाॅ. वैभव चतुर्वेदी ने

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here