Indore:मंत्री तुलसी सिलावट के फर्जी हस्ताक्षर वाला अनुशंसा पत्र सामने आया

मंत्री तुलसी सिलावट  का हस्ताक्षर किया एक फर्जी सिफारिशी पत्र सामने आया

0
544
 लोकल इंदौर 3 अगस्त। मंत्री तुलसी सिलावट  का हस्ताक्षर किया एक फर्जी सिफारिशी पत्र सामने आया है। जिसके लिए सिफारिश की गई वह ऐसे किसी पत्र से अनभिज्ञ बता रहा है। मंत्री  का स्टाफ ऐसे किसी पत्र के जारी किए जाने से इनकार कर रहा है।
 दरसल इंदौर की तीन महिला शिक्षकों के ट्रांसफर के लिए
मंत्री तुलसी सिलावट के नाम से पत्र लिखा गया है। पत्र की भाषा शैली और हस्ताक्षर के कारण स्क्रूटनी अधिकारियों को इस पर शंका हुई और उन्होंने मंत्री के दफ्तर से इसकी सत्यता पूछी तो पता चला कि इस तरह का कोई पत्र जारी नहीं किया गया है। हस्ताक्षर भी मंत्री के नहीं हैं।
 दैनिक भास्कर के अनुसार विभागीय अधिकारी ने कहा कि तीन महिला शिक्षकों के लिए मंत्री की अनुशंसा मिली थी।  मंत्री का  सिफारिशी पत्र गलत पाए जाने के बाद इन शिक्षकों के नाम  हटा दिए गए हैं।
Indore : इंदौर में “घर बैठे बनायें अपना लर्निंग लायसेंस”
मामले में सिलावट ने कहाकि इस तरह के गलत काम नहीं किए जाने चाहिए। जहाँ जरूरत होती है वहाँ शासन द्वारा वैसे ही योग्य कर्मचारियों का ध्यान रखा जाता है।
ढाई सौ से ज्यादा पत्र आ चुके अनुशंसा के लिए 
बता दें किस्कूल शिक्षा विभाग में ही सबसे ज्यादा सौ पत्र ट्रॉसफर अनुशंसा के लिए आ चुके हैं। वहीं, अन्य विभागों में भी डेढ़  सो से ज्यादा पत्र ट्रांसफर करने या फिर रुकवाने के लिए आ रहे हैं।
पूर्व स्पीकर सुमित्रा महाजन और सांसद शंकर लालवानी और भाजपा राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने काफी कम एक-दो ही अनुशंसाकी है। वहीं, मंत्री सिलावट और उषा ठाकुर द्वारा करीब आठ -दसअनुशंसाएं की गई हैं। जनप्रतिनिधियों में सबसे ज्यादा अनुशंसा विधायक रमेश मेंदोला और महेंद्र हार्डिया द्वारा जारी किए गए हैं
इनके साथ ही विधायक आकाश विजयवर्गीय, भाजपा नेता राजेश सोनकर, जीतू जिराती, कांग्रेस विधायक संजय शुक्ला व अन्य द्वारा भी अनुशंसा पत्र जारी किए गए हैं।
लोकल इंदौर का एप गूगल से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें... 👇 Get it on Google Play

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here