Indore: इस बार का सावन : एकम के बाद तृतीया ,सप्तमी के बाद फिर सप्तमी , अष्टमी के बाद दशमी !

0
189
इंदौर २३ जुलाई l 25 जुलाई से आरंभ  होने वाला इस बार का  सावन बेहद खास है। 29 दिन के इस सावन माह में सप्तमी तिथि के अगले दिन फिर सप्तमी तिथि आ जाएगी। कृष्णपक्ष की एकम के बाद तृतीया आएगी। शुक्लपक्ष की अष्टमी के बाद नवमी नहीं आएगी।
नेशनल अवॉर्ड प्राप्त विज्ञान प्रसारक सारिका घारू ने कम होती एवं वृद्धि करती तिथियों के पीछे छिपे खगोलविज्ञान की जानकारी दी। इस बार सावन का महीना 25 जुलाई से आरंभ होकर 22 अगस्त तक रहेगा। सारिका ने बताया अमावस्या के दिन सूर्य और चंद्रमा के बीच अंतर जीरो डिग्री होता है। अगले लगभग 24 घंटे में चंद्रमा आगे बढ़ जाता है और यह अंतर 12 डिग्री हो जाता है। 12 डिग्री होने के लिए जो अवधि लगती है उसे तिथी कहते हैं।चन्द्रमा,पृथ्वी की परिक्रमा अंडाकर पथ में करता है। इस कारण चंद्रमा पृथ्वी से हमेशा समान दूरी पर नही रहता है । इस कारण 12 डिग्री का कोण बनाने के लिए चंद्रमा को कभी ज्यादा चलना पड़ता है तो कभी कम दूरी। इसलिए तिथि की अवधि कभी 24 घंटे से अधिक होती है कभी 24 घंटे से कम।
खास बातें सावन की तिथि वृद्धि
सावन माह में 30 जुलाई को सप्तमी तिथि के अगले दिन 31 जुलाईको फिर सप्तमी आ जायेगी।
तिथिक्षय
• 25 जूलाई को एकम के बाद 26 जुलाईको द्वितिया नहीं आएगी, सीधे तृतीया तिथि आ जाएगी
• 16 अगस्त को अष्टमी के बाद 17 अगस्त को नवमी नहीं आएगी, सीधे दसवीं तिथि आ जाएगी।
ऐसे समझें कम ज्यादा समय की तिथि
सारिका ने जानकारी दी कि किसी दिन सूर्योदय के समय जो तिथि होती है वही तिथि पूरे दिनमानी जाती है, भले ही सूर्यादय के कुछ मिनट बाद ही अगली तिथि आ रही हो। अगर किसी तिथि की अवधि 24 घंटे से अधिक है और वह सूर्यादय से कुछ देर पहले ही आरंभ हुई हो तो वह अगले सूर्यादय के बाद भी जारी रहेगी। इससे अगले दिन भी वही तिथि मानी जाएगी। जैसा कि इस सावन में कृष्ण पक्ष की सप्तमी तिथि दो दिन रहेगी। इसे तिथि वृद्धि कहते हैं। अगर किसी तिथि की अवधि 24 घंटे से कम है और वह सूर्योदय के बाद आरंभ हुई और अगले सूर्योदय के पहले ही समाप्त हो गई तो यह तिथि क्षय कहलाता है। जैसा किइस सावन में कृष्ण पक्ष की द्वितिया एवं शुक्ल पक्ष की नवमी का क्षय है।(पीपुल्स समाचार से सभार )
लोकल इंदौर का एप गूगल से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें... 👇 Get it on Google Play

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here