Indore : Amazon से पीड़ित इंदौर के परिवार ने गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा से लगाई ये गुहार

गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा से उच्च स्तरीय जांच की मांग

0
783
लोकल इंदौर 28 सितम्बर l इंदौर में कुछ समय 18 साल के युवक द्वारा amazon से ऑनलाइन जहर मंगवाकर अपनी जान दे दी थीlजिसके बाद परिजन amazon कंपनी को जिम्मेदार मान रहे  है  परिजन  मध्यप्रदेश के गृहमंत्री से गुहार लगा रहे हैं कि उनके बेटे की जैसे मौत हुई है वैसे किसी और के घर का चिराग न उजड़े lइसके लिये  कंपनी पर सख्त कार्रवाई की जाय ।
        श्राद्ध पक्ष के इन दिनों में लोग अपने पूर्वजों को याद कर उनको तर्पण करते है लेकिन किसी परिवार का जवान बेटा दुनिया से रुखसत हो जाये तो उस परिवार पर क्या गुजर रही होगी इसका अंदाजा लगाना मुश्किल है। दरअसल, घटना इंदौर के छत्रीपुरा थाना क्षेत्र के लोधा कालोनी की है जहां फ्रूट बेचकर गुजर बसर करने वाले परिवार के घर का चिराग ऑनलाइन कंपनी के द्वारा मुहैया कराए गए जहर का शिकार बन गया। अब हालात ये है कि 18 साल के नौजवान की दादी उस कमरे में अपने पोते की राह देखती है जिसमे उसने amazon द्वारा उपलब्ध कराया गया जहर खाकर अपनी जीवन लीला समाप्त कर ली थी। वहीं  बेटे को खो चुकी माँ   माँ अंजू वर्मा हमेशा amazon कंपनी को कोसती है क्योंकि माँ का मानना है कि ऑनलाइन जहर देने वाली कंपनी ने ही उसके घर की खुशियां हमेशा -हमेशा के लिए छीन ली है। वहीं  बूढ़ी हो चुकी दादी भी आंखों में आंसू लिए श्राद्ध पक्ष में इस उम्मीद में रात – रात भर जागती है कहीं से भी, और कैसे भी उसके पोते की एक झलक उन्हें मिल जाये। आंखों से छलकता पानी ये बताने के लिए काफी है होनहार आदित्य उनका दिल अजीज पोता था।
ये है पूरा मामला
ऑनलाइन शॉपिंग कंपनी द्वारा जहर बेचने का मामला उस वक्त सामने आया जब फ्रूट बेचकर घर की गुजर बसर करने वाले पिता रणजीत वर्मा को बेटे की मौत के बाद उसके मोबाइल और अन्य सामान से ये पता चला कि उसके बेटे के सुसाइड का माध्यम एक कंपनी  बनी है। दरअसल, मृतक आदित्य ने घर मे सुसाइड करने के लिए के लिये amazon से सल्फास के पाउडर के पैकेट मंगाए।
पिता के मुताबिक 22 जुलाई 2021 को बेटे आदित्य वर्मा ने amazon ऑनलाइन शॉपिंग कंपनी से सल्फास के चार पैकेट मंगवाये और 28 जुलाई को ऑर्डर की डिलेवरी आदित्य को घर पर की गई। इसके बाद 29 जुलाई को उन्हीं  सल्फास पावडर के पैकेट में से बड़ी मात्रा में आदित्य ने अपने किराये के घर के एक कमरे में खा लिए। आदित्य के पिता की माने तो बेटे ने जहर कितना खाया ये तो नही पता लेकिन बचा हुआ एक पैकेट उनके पास अभी भी रखा है। जहर खाने के बाद जब घर वालो को पता चला कि आदित्य की हालत बिगड़ रही है तो इसे इलाज के लिए तुरंत चोइथराम हॉस्पिटल ले जाया गया जहां 30 जुलाई की सुबह डॉक्टर्स ने आदित्य को मृत घोषित कर दिया। जिसके बाद पुलिस ने मर्ग कायम कर शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। इधर, आदित्य के अंतिम संस्कार के बाद उसके परिजनों ने जब उसका मोबाइल खंगाला तो चौंकाने वाले खुलासे हुए। दरअसल, आदित्य ने इसके पहले भी amazon से ही लिक्विड फार्मेट में जहर मंगवाया था लेकिन भुगतान न होने के कारण कंपनी ने ऑर्डर कैंसल कर दिया। इसके बाद 22 जुलाई को दूसरी कोशिश में सल्फास के पैकेट ऑर्डर किये गए जिनकी डिलेवरी और भुगतान के बाद आदित्य ने उसे खाकर अपनी जान दे दी।
           वही इस मामले को लेकर पीड़ित पिता रणजीत वर्मा ने मौत की वजह अमेज़न कंपनी को मानते हुए न सिर्फ छत्रीपुरा थाना, आई.जी. और डीआईजी को भी शिकायत की और कंपनी पर सख्त कार्रवाई की मांग की ताकि किसी ओर के परिवार का चिराग उनके घर के चिराग की तरह न बुझ पाए।
          इधर, इस पूरे मामले के जांच अधिकारी, एएसआई हरिद्वार गुजरभोज ने बताया कि लोधा कालोनी में रहने वाले 18 वर्षीय आदित्य को amazon ने सल्फास के चार पैकेट उपलब्ध कराए थे। इसके बाद द्वारा amazon के खिलाफ शिकायत की गई थी जिसमे पुलिस की जांच जारी है और amazon कंपनी ने बोला हम ट्रांसपोटर्स है और बीच के माध्यम है। amazon ने पुलिस को जबाव दिया कि महाराष्ट्र के पुणे के भाग्यश्री कृषि भंडार से हमने माल उठाया और सप्लाय किया। वहीं पुलिस की माने तो पुलिस भाग्यश्री कृषि भंडार से संपर्क कर मध्यप्रदेश में सप्लाय करने के लायसेंस की भी जांच करेगी। मध्यप्रदेश की इंदौर पुलिस ने इस अनूठे मामले में जांच के बाद विधिक राय लेने का भी मन बना लिया है क्योंकि ऐसा मामला पुलिस के सामने पहली बार आया है।
             वही अपने बेटे को खो चुके पिता रणजीत वर्मा की माने तो पुलिस तेजी से इस मामले में कार्रवाई करे तो amazon कंपनी द्वारा जहर बचने के गोरखधंधे का खुलासा हो सकता है। अब तक की पुलिस कार्रवाई में किसी नतीजे पर भी पहुंच पाने के चलते परिजन मान रहे है कि पुलिस कोई कार्रवाई नही कर रही है।
गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा से पिता ने लगाई ये गुहार
ऑनलाइन जहर मंगवाकर उसे खाकर जान गंवाने वाले पिता रणजीत वर्मा श्राद्ध पक्ष में अपने बड़े बेटे को याद कर तर्पण करने के साथ ही उसके कपड़ो को निहारते और संवारते रहते है क्योंकि उन्हें उम्मीद है कि उनका बेटे की मौत का इंसाफ उन्हें जरूर मिलेगा। ऐसे में पिता ने मध्यप्रदेश के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा से गुहार लगाई है कि वो amazon कंपनी के खिलाफ सख्त कार्रवाई करे ताकि फिर किसी ओर के घर की रौनक न चली जाए और किसी का होनहार बेटा दुनिया से रुखसत न हो जाए। पिता ने गृहमंत्री से मांग की है उनके बेटे की मौत को 2 माह से ज्यादा का वक्त हो गया है और अब तक amazon पर कोई प्रकरण दर्ज नही किया गया लिहाजा, उम्मीद है कि सरकार उन्हें इंसाफ दिलाएगी।
लोकल इंदौर का एप गूगल से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें... 👇 Get it on Google Play

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here