PM मोदी ने दी इंदौर के झाड़ू निर्माता को ये सलाह .. ऐसे हुआ संवाद

0
475

इंदौर 9 सितम्बर । प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को उन पथ विक्रेताओं से बात की जिन्होंने प्रधानमंत्री पथ विक्रेता स्वनिधि योजना से कर्ज लेकर धंधा शुरू किया। इनमें सांवेर के छगन वर्मा और उनकी पत्नी भी शामिल थीं। सांवेर के तहसील कार्यालय में प्रधानमंत्री से छगन के रूबरू होने के लिए अधिकारियों ने पूरा सेटअप लगाया था।

11 बजे प्रधानमंत्री आए और वीडियो कांफ्रेंस में सबसे पहले छगन से ही बातों का सिलिसला शुरू किया। 15 मिनट की बातचीत में प्रधानमंत्री ने छगन को पुरानी झाडू के पाइप का इस्तेमाल कर झाडू निर्माण की लागत कम करने के टिप्स दिए।

कुछ इस तरह चला चर्चा का दौर -मोदी- दिनभर में कितनी झाड़ू बना लेते हो?

छगन- दिन में 50-60 झाडू, पत्नी और बच्चे मिलकर बनाते हैं।

मोदी- बच्चों से झाडू बनवाते हो, उन्हें पढ़ाते नहीं हो क्या?

छगन- पढ़ाते हैं। उसके बाद झाडू बनाते हैं।

मोदी- आप एक ही प्रकार की झाडू बनाते हैं या अलग-अलग प्रकार की?

छगन वर्मा की पत्नी- हम खजूर की पत्ते की झाडू बनाते हैं।

मोदी- पत्ते कहां से लाते हैं?

छगन- पत्ते किसानों से खरीदते हैं।

मोदी- पैसा नकद देना पड़ता है या बाद में?

छगन- पहले झाडू बनाते हैं। फिर उसे बेचकर किसानों का पैसा चुकाते हैं।

मोदी- एक झाडू बनाने में कितना खर्च आता है?

छगन- खजूर की पत्ती के अलावा, पाइप, तार भी बाजार से खरीदते हैं। नायलॉन भी खरीदना पड़ता है।

मोदी- क्या आपने कभी सोचा है कि पुरानी झाडू की पाइप का इस्तेमाल आप नई झाडू में कर सकते हो। जो आपसे झाडू खरीदता है, उससे आप पुरानी झाडू ले लें और उसके पाइप का इस्तेमाल करें।

छगन- ऐसा हो सकता है, लेकिन पुरानी झाडू के साथ पाइप भी नष्ट हो जाता है।

मोदी- आप पहले से कह दें तो वे आपके लिए पुरानी झाडू रखेंगे। फिर उसके पाइप का इस्तेमाल करोगे तो नई झाडू बनाने की लागत कम आएगी। हमारे देश में रिसाइकलिंग की परंपरा पुरानी है। माताएं साड़ी का गद्दा बनाती हैं। गद्दा पुराना होता है तो पोछा बना लेती हैं। यदि इसे व्यापार में जोड़ लिया तो आपकी कमाई भी बढ़ेगी।

( सभार  नईदुनिया)

 

लोकल इंदौर का एप गूगल से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें... 👇 Get it on Google Play

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here