Indore Corona: इस खबर को पढ़ कर बताना कि इन्हें क्या कहा जाय ?

0
1132

लोकल इंदौर २९ अप्रैल . इस खबर को  पढने के  बाद आप   क्या सोंचेंगे यह हमे नही पता .परन्तु यदि आप के अंदर एक मानवता भरा दिल है  तो इस खबर पर अपनी प्रतिक्रया जरूर व्यक्त करना . ऐसे लोगो के प्रति जो ये कार्य कर रहे है .  हमारा मकसद  केवल आपको सचेत  करना है की ऐसे लोग भी इसी समाज का हिस्सा  है  . जिसमे हम और आप रहते है .

इंदौर में पुलिस  की क्राईम ब्रांच  ने ऐसे गिरोह को पकड़ा है जो  इस कोरोना काल में अपना फायदा लेने के लिए उपचार हेतु  अस्पताल में  भर्ती मरीजों की जान से खेलने से भी बाज़ नही आ रहे है .मरीज के परिजन  अपनों  की जान बचाने के लिए न जाने कैसे कैसे जतन कर  रेमडेसिविर इंजेक्शन लाते हैं कि उनके परिजन की जान बच जाए . लेकिन ये मौत के सौदागर उन इंजेक्शन को मरीज को न लगा कर  बाज़ार में  तीस से पचास हजार रूपये  में बेच देते थे .

जानकारी के अनुसार  आरोपी   अब तक आरोपी 30 से ज्यादा इंजेक्शन बेच चुके हैं। पुलिस ने 4 आरोपियों के पास से 5 इंजेक्शन जब्त किए हैं। इसके अलावा, इनके पास से एक कार, 60 हजार 650 रुपए नकद और मोबाइल जब्त किए हैं।

दरसल क्राइम ब्रांच को सूचना मिली थी, बाणगंगा क्षेत्र में लव कुश चौराहे के आसपास सफेद रंग की कार (MP-33/C-6765) में चार युवक रेमडेसिविर बेचने की फिराक में हैं। ये चारों मेल नर्स होने के साथ ही होम आइसोलेशन वाले पेशेंट के प्राइवेट केयर टेकर का भी काम करते हैं। इस पर टीम गठित कर बाणगंगा पुलिस के साथ मौके पर रवाना किया गया।

टीम ने पाया कि लवकुश चौराहा सर्विस रोड पर श्मशान के सामने कार खड़ी है। जांच के दौरान कार में चार लोग बैठे मिले। ड्राइवर सीट पर बैठे युवक ने अपना नाम संदीप ओझा पिता रामजीवन ओझा निवासी ए-1/101, करोल बाग 2  चिरंजीव पिता रूपसिंह निवासी सिल्वर सी-1 करोल बाग बाणगंगा, 3. हरिराम पिता गणेश राम केवट निवासी 501 हरसिंगार बिल्डिंग बाणगंगा  4.सोनू पिता कन्हैया बैरवा निवासी करोल बाग सी-1/613 बाणगंगा बताया।तलाशी में इनके पास से 5 इंजेक्शन मिले। इसकी कीमत करीब 50 हजार रुपए है। इनसे इंजेक्शन को लेकर कागजात मांगे, जो वे दिखा नहीं पाए। पूछताछ में इन्होंने मेल नर्स की नौकरी करना स्वीकार किया। बताया कि ये इंजेक्शन उन्होंने कोविड मरीजों के परिवारवालों से मंगवाए थे। उन्होंने उक्त इंजेक्शन को कोविड मरीज को नहीं लगाया, बल्कि उसे चुरा लिया।उसे ऊंची कीमत पर अन्य मरीज को बेचने वाले थे। उन्होंने बताया कि अब तक वे इसी प्रकार से 30 से अधिक इंजेक्शन बेच चुके हैं। वे एक इंजेक्शन को 25000 से 40000 रुपए में बेचते हैं।

लोकल इंदौर का एप गूगल से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें... 👇 Get it on Google Play

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here