इंदौर में डेढ़ लाख बिजली उपभोक्ताओ को है बिल माफी की आशा

0
328

लोकल इंदौर1 अक्टूबर। मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान द्वारा बिजली बिलों के बकाया वसूली पर रोक संबधी आदेश  केे तहत इंदौर क्षेत्र में कुल एक लाख 40 हजार उपभोक्ता बकाया वसूली पर रोक के दायरे में आए हैं।

पश्चिम क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी लिमिडेट के आंकड़ों के मुताबिक इंदौर क्षेत्र में कुल एक लाख 40 हजार उपभोक्ता बकाया वसूली पर रोक के दायरे में आए हैं। खास बात ये कि इनमें से ज्यादातर इससे पहले तक नियमित बिल जमा कर रहे थे। घोषणा होते ही इन्होंने बिल जमा करना बंद कर दिया।

लॉकडाउन के दौर में ज्यादातर बिजली उपभोक्ता बढ़े हुए बिजली बिलों की शिकायत कर रहे थे। बिल माफी की मांग की जा रही थी। चुनावी मौसम में मुख्यमंत्री ने बिल माफी का ऐलान तो नहीं किया बल्कि पुरानी वसूली को रोकने का आदेश दे दिया। सितंबर से बिजली कंपनी ने जो नए बिल जारी किए उसमें पुराने एरियर को जोड़ना बंद कर दिया। सिर्फ चालू माह की खपत के बिल ही दिए गए।

इस कारण उपभोक्ता समझ रहे है कि उनके बकाया बिल माफ हो सकते हैं। यही कारण है कि जो उपभोक्ता जुलाई तक नियमित बिजली बिल चुका रहे थे उन्होंने भी अगस्त के बिल जमा नहीं किए। बिजली कंपनी के आंकड़ों से यह साफ हो रहा है।

कंपनी के आंकड़ों के अनुसार सभी पर कुल 75 करोड़ रुपये से ज्यादा पुराना बकाया है। खास बात ये है कि इनमें से कुल एक लाख दो हजार उपभोक्ता ऐसे हैं जिन पर बकाया राशि पांच हजार रुपये या उससे कम है। यानी ये उपभोक्ता लंबे समय से बकायादार नहीं है। इनमें से ज्यादातर उपभोक्ता वे हैं जो पहले नियमित बिल जमा कर रहे थे लेकिन घोषणा होते ही अगस्त माह के बिल जमा करना बंद कर दिया।

इन उपभोक्ता पर कुल करीब 16 करोड़ रुपये बकाया है। शेष 38 हजार से ज्यादा उपभोक्ताओं से करीब 59 करोड़ रुपये की वसूली की जाना है, क्योंकि बिल माफ नहीं हुए सिर्फ वसूली पर रोक लगी थी। चुनावी दौर खत्म होने के बाद सभी उपभोक्ताओं को फिर से असल बिल जारी किए जाएंगे। जिसमें पुराना एरियर भी जोड़ा जाएगा।
लोकल इंदौर का एप गूगल से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें... 👇 Get it on Google Play

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here