“ ओरल सेक्स “ भी  बन सकता है  कैंसर का कारण – डॉ मोहम्मद अखील

0
2548

कैंसर का नाम सामने आते ही सबसे पहले मुंह और गले का कैंसर  हमारे सामने आता है . तम्बाकू पान  गुटका  खैनी इनका मुख्य कारण  है . लेकिन इनके अलावा भी अनेक कारण है, जो मुंह और गले के  कैंसर को जन्म देने में सहायक बनते हैं . इनमे से एक “ ओरल सेक्स “ भी है

 हम सभी जानते हैं  कि तम्बाकू पान  गुटका  खैनी ,मुंह और गले का कैंसर  होने  का एक  प्रमुख  कारण हैं।  लेकिन अनेक ऐसे कारण भी हैं जिन्हें  हम अनदेखा करते हैं,  और वे धीरे धीरे  कैंसर  को जन्म देते  है।  इनमें  से एक है, हमारे मुंह में दो सप्ताह से अधिक किसी छाले का होना  जो  समान्य इलाज के बाद भी ठीक न हो रहा हो।   हमारे  किसी नुकिले दांत  के कारण बार बार गाल  की चमड़ी का छिल  जाना जो घाव बन जाता है  या सामन्यत: हमारे ऊपर  और नीचे के दांतों के बीच गाल की चमड़ी आ जाने से घाव का हो जाना।हम इन छालों या घाव के प्रति लापरवाही करते है और  लापरवाही के कारण यदि ऐसा रहा तो  वह  भी कैंसर का कारण हो जाता है। इसके अलावा मुंह में  लगी बत्तीसी  के टाईट हो जाने से  वह जबड़ों  पर चुभ रही है और घाव होना भी एक कारण हो सकता है  .

 इसके अतिरिक्त  हाल के दिनों में देखा जा रहा है कि पाश्चात्य देशों की तरह हमारे देश में भी  ह्यूमन पैपिलोमा वायरस (एचपीवी) मुंह और गले के कैंसर का कारण बनता जा रहा है जो के ओरल सेक्स से होता है .एचपीवी अधिकतर सर्विक्स कैंसर में ज्यादा दिखाई देता है।

इसके अलावा हमारा खानपान बदल गया . हम हेल्दी भोजन  की जगह जंक फ़ूड और ज्यादा  ज्यादा तला खाना खाने लगे हैं  और हमारी  शारीरिक गतिविधियाँ कम होती जा रही है . हमारी दिनचर्या में फिजिकल एक्टीविटी का न होना भी  आगे चल कर कैंसर  का  बन सकती है. ज्यादा लाल मिर्च खाना भी कैंसर को जन्म देने का एक कारण हो सकती है .

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here