इंदौर में प्लास्टर ऑफ पेरिस की मूर्ति बनाई तो होगी कार्यवाही

0
193

इंदौर 03 अगस्त  .इंदौर जिले में i(पीओपी) तथा किसी भी प्रकार के केमिकल और रसायनिक वस्तुओं के उपयोग से मूर्ति का निर्माण किया जाना प्रतिबंधित किया गया है। इस संबंध में कलेक्टर एवं जिला दण्डाधिकारी श्री लोकेश कुमार जाटव द्वारा दण्ड प्रक्रिया संहिता 1973 की धारा-144 के अंतर्गत आदेश जारी कर दिये गये है।

      यह आदेश 3 अगस्त से प्रभावशील होकर 30 सितंबर 2019 तक लागू होगा। उक्त आदेश का उल्लंघन करने वालो के विरूद्ध भारतीय दण्ड विधान की धारा-188 के  अतंर्गत कार्यवाही की जायेगी। इंदौर जिले में जारी आदेश के तहत जिले में प्लास्टर ऑफ पेरिस से मूर्तियों के निर्माण पर रोक लगा दी गई हैं। मूर्तियों/प्रतिमाओं के निर्माण में केवल उन्हीं प्राकृतिक सामग्रियों का ही इस्तेमाल किया जाये जैसे कि पवित्र ग्रन्थों में उल्लेखित है। मूर्तियों के निर्माण में परंपरागत मिट्टी का ही उपयोग किया जाये, पकी हुई मिट्टी, पीओपी या किसी प्रकार के केमिकल व रासायनिक वस्तुओं का उपयोग मूर्ति निर्माण में किया जाना प्रतिबंधित रहेगा।

 आदेश में ये भी 

जारी आदेशानुसार पूजन सामग्री जैसे फूलफलनारियलवस्त्रआभूषणसजावट के सामान जिसमें कागज व प्लास्टिक से निर्मित वस्तुएं शामिल हैंको मूर्ति/प्रतिमाओं विसर्जन के पूर्व निकाल कर उन्हें अलगअलग एकत्रित किया जायेगा तथा उक्त एकत्रित सामग्री का निपटान नगरीय ठोस अपशिष्ट नियम– 2000 के प्रावधानों के परिप्रेक्ष्य में स्थानीय निकायों द्वारा किया जायेगा। मूर्ति/प्रतिमाओं विसर्जन के 24 घंटे के भीतर विसर्ज‍ित मूर्ति/प्रतिमाओं से उत्पन्न ठोस अपशिष्टों जैसे बांसरस्सीमिट्टीपीओपीप्रतिमा के हिस्से आदि को एकत्रित कर उनका निपटान नगरीय ठोस अपशिष्ट नियम-2000 के प्रावधानों के परिप्रेक्ष्य में स्थानीय निकायों द्वारा किया जायेगा।

लोकल इंदौर का एप गूगल से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें... 👇 Get it on Google Play

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here