साबूदाना, खोपरा बूरा और मोरधन में तेजी के आसार…. गोपाल साबू

0
161

इंदौर 08 जनवरी: जनवरी के प्रथम सप्ताह से ही सेलम के साबूदाना बाजार में तेजी का रुख बना हुआ है और दूसरे सप्ताह की शुरुआत तक करीब 500 रु. प्रति क्विंटल की तेजी आ गई है और फरवरी – मार्च महीने तक इतनी ही तेजी की सम्भावना और बताई जा रही है। पुराना माल काफी स्टाक होने के बाद भी नये और एगमार्क  साबुदाना की मांग ज्यादा है और दोनों क्वालिटी के माल के भाव में अन्तर बढ़ गया है, जो भविष्य में और गहरा हो सकता है जिसके संभावित कारण साबु ट्रेड प्राइवेट लिमिटेड, सेलम के प्रबंध निर्देशक गोपाल जी साबु के अनुसार इस प्रकार हैं:

  • साबूदाना उत्पादन का एकमात्र घटक कसावा कंद है, जिसके भाव पिछले सप्ताह में   7200 – 7300 रु. प्रति टन से बढ़ कर 8900-9000 रू प्रति टन हो गये हैं
  • तमिलनाडु का सबसे बडा त्यौहार पोंगल (मकर संक्रांति) आ रहा है, जिसके चलते करीब एक सप्ताह नये साबूदाना का उत्पादन नहीं हो पायेगा
  • फरवरी में शिवरात्रि और मार्च में होली तथा नवरात्रि में साबूदाना की मांग बनी रहेगी
  • कसावा कंद की पहली फसल की आवक फरवरी के बाद कम हो जायेगी
  • दूसरी फसल जून से आवक प्रारम्भ होगी, जिसकी पैदावार अच्छी बताई जा रही है, किन्तु किसान के 8 – 9 रु. किलो से कम बेचने के आसार कम हैं

अत: अच्छी किस्म के साबूदाना में सामने कोई मन्दी की संभावना नजर नहीं आ रही है।

खोपरा बूरा बाजार के बारे में श्री गोपाल जी साबु ने बताया कि इसमें भी तेजी का रूख है। आयातित, तेल निकाले हुए खोपरा बूरा के भावों में विदेशों में अच्छी तेजी है, प्रतिस्पर्धा के चलते दक्षिण के कई खोपरा बूरा निर्माताओं की फैक्टरीयां बन्द होने के कारण अचानक सप्लाई कम हुई है और इस कारण अच्छे मालों की मांग में वृद्धि हुई है और यही इस वक्त की तेज़ी का सबसे बड़ा कारण है

श्री साबु ने बताया कि तमिलनाडु में असमय बरसात की वजह से अच्छे मोरधन की फसल भी खराब हुई है अत: इस वर्ष आवक और मांग का अनुपात गड़बड़ाने के कारण उच्च किस्म के मोरधन में भी तेजी के ही आसार हैं ।

लोकल इंदौर का एप गूगल से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें... 👇 Get it on Google Play

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here