सम्मान के लिए ठोकर मारी थी पद को…गुस्ताखी माफ़ में नवनीत शुक्ला

0
517
ध्यप्रदेश भाजपा के नए समीकरण कुछ नए संकेत भी दे रहे हैं। यह संकेत बता रहे हैं कि एक बार फिर मध्यप्रदेश की राजनीति में चौदह वर्ष का वनवास काटने के बाद उमा भारती की वापसी का गलियारा बनना शुरू हो गया है। वे बुंदेलखंड से विधानसभा चुनाव लड़ने की तैयारी भी शुरू कर चुकी हैं और इन दिनों दिल्ली दरबार में भी उनका अच्छा-खासा वजूद बना हुआ है। यही कारण है कि दिल्ली दरबार को भगवा व धारियों से विशेष प्रेम देखा जा सकता है। पिछले छह माह में वे भोपाल में लगातार सक्रिय हैं। इसके अलावा उनके कट्टर समर्थक प्रहलाद पटेल भी इन दिनों नरेंद्र मोदी और अमित शाह के करीबी बने हुए हैं। वैसे भी इन दिनों संन्यासियों और भगवाधारियों के राजनीति में आने की गलाकाट प्रतियोगिता चल रही है। ऐसे में पारंगत राजनीति की विशेषज्ञ उमा भारती के आने से भाजपा की राजनीति में कई संस्कार भी बदल जाएंगे। वैसे भी लालकृष्ण आडवाणी के विरोधी होने का परचम लहराने के बाद उनकी दिल्ली दरबार में अच्छी-खासी पहुंच देखी जा सकती है। यहां मामा के कई विरोधी भी उनसे संपर्क बनाने में लग गए हैं। पिछले दिनों उनके द्वारा दिए गए एक बयान को लेकर संकेत मिलने लगे थे कि राम मंदिर को लेकर किसी भी प्रकार का अहंकार न पाला जाए।
साले-दामाद का कोई चक्कर भी नहीं है….
कार्यकर्ताओं के साथ नेताओं को भी संदेश दे दिया था। वहीं दूसरी ओर इनके समर्थकों का कहना है कि उन पर कोई व्यापमं जैसा आरोप नहीं होने के साथ उनका कोई रिश्तेदार भी बदनाम नहीं है और उन्होंने मध्यप्रदेश में मुख्यमंत्री का पद पार्टी की प्रतिष्ठा को बनाए रखने के लिए छोड़ा था। यहां मुकदमा दर्ज होने के बाद भी लोग पद नहीं छोड़ रहे हैं। कुछ तो संकेत निश्चित ही कहीं से मिल रहे हैं, वरना उमा भारती के समर्थक अचानक शिवराजसिंह चौहान के विकल्प के रूप में उन्हें बताना शुरू नहीं करते। वे बता रहे हैं योगी की तरह भगवाधारी हैं, आक्रामक राजनीति करती हैं, साले-दामादों का कोई चक्कर नहीं है और उन्होंने पिछला चुनाव उनकी रीढ़ की हड्डी में लगातार दर्द होने के कारण नहीं लड़ा था, परंतु इस समय जितनी तेजी से भाजपा में रीढ़विहीन लोगों की आवक होने लगी है तो ऐसे में रीढ़ के नेता की बड़ी जरूरत है, जो पार्टी की विचारधारा को ही आगे रखकर काम करे। वैसे भी भाजपा की नई गाइड लाइन में जो संशोधन हुआ है, उसके अनुसार यदि कोई भाजपा से निकलेगा तो वह सूपर्णखा से लेकर रावण तक माना जाएगा, परंतु जो भाजपा में वापस आएगा, वह सीता और राम की तरह ही पूज्यनीय होगा।
सांवेर में पंडितों को लामबंद कर रहे है दादा दयालू…
सांवेर में लंबे समय से ब्राह्मणों ने पेलवान के खिलाफ मोर्चा खोल रखा था। अब सांवेर विधानसभा के लगभग पच्चीस गांव में ब्राह्मण वोटों की सुपारी एक बार फिर दादा दयालू के हाथ में पहुंच गई है। भले ही उनके साथ अन्याय हुआ हो, पर वे इस बार पेलवान के साथ अन्याय नहीं चाहते। पिछले चार दिनों में जस्सा कराड़िया में सुनील शर्मा, मांगलिया में संदीप जोशी (जो पहले कांग्रेसी थे) सहित अन्य बैठकों में भाजपा को जिताने का अभियान शुरू किया है। सारी बागडोर आनंद पुरोहित को दे रखी है। दादा की दी हुई लौंग मथर-मथरकर यहां ब्राह्मणों को खिलाई जा रही है। यदि ब्राह्मणों ने साथ दिया तो मथरी हुई लौंग काम कर जाएगी, वरना अच्छे-खासे चुनाव में कही मंथरा लौंग हो गई तो बैठे-बिठाए पेलवान को वापस छावनी की दुकान पर कामकाज संभालना पड़ेगा। हालांकि पेलवान भी लड्डू से लेकर सब तो खिला रहे हैं, इसके बाद समय बताएगा क्या होगा।
लोकल इंदौर का एप गूगल से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें... 👇 Get it on Google Play

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here