इंदौर में ऐसे भी है पुलिस जवान जो दिन में ड्यूटी और रात में करते है सुंदर कांड ……

0
511

लोकल इंदौर।इंदौर के विभिन्न थानों में पदस्थ ऐसे कई पुलिसकर्मी हैं जो थाने की डयूटी पूरी करने के बाद रात में सुंदर कांड के पाठमें नियमित हाजिरी लगाते हैं।यह सिलसिला बीते चार दशक से भी अधिक समय से चल रहा है।

इन पुलिसकर्मियों को प्रेरित  करने से लेकर शहर में रामायण मंडलों के गठन के लिए प्ररित करने का काम लकड़ी  पीठा व्यवसायी-गांधीनगर रामायण मंडल के संचालक (स्व)रघुवीर सिंह चौहान को जाता है।पुलिस कर्मियों वाले  दो रामायण मंडल दूसरी पल्टन रोकड़िया हनुमान मंदिर और चौथी पल्टन रामायण मंडल हैं। इनमें चौथी पल्टन  मंडल का 42 वां वार्षिकोत्सव महाशिवरात्रि पर 20 फरवरी को है।

आमजन में पुलिसकर्मियों की बनी  छवि से उलट रामायण मंडलों में हाजिरी लगाने वाले सैकड़ों पुलिसकर्मी वर्षों से सुंदर कांड पाठ के माध्यम से रामायण के प्रचार प्रसार में तो जुटे ही हैं पुलिस की बेहतर छवि बनाने में भी सहयोग कर रहे हैं।ट्रैफिक थाने के समीप एमटीएच कंपाउंड स्थित दुर्गा माता मंदिर की स्थापना से लेकर सौंदर्यीकरण का कार्य में भी पुलिसकर्मियों की मुख्य भूमिका रही है।

शहर के सभी रामायण मंडल हाजिरी लगाएंगे 20 फरवरी को चौथी पल्टन मंडल के वार्षिकोत्सव में 

लंबे समय पंढरीनाथ, एमजी रोड, मल्हारगंज थाने में एसआई रहे और गौतमपुरा टीआई पद से सेवानिवृत  हुए कुंजनसिंह बुंदेला कहते हैं चौथी पल्टन रामायण मंडल सहित अधिकांश रामायण मंडलों की स्थापना का श्रेयस्व रघुवीर सिंह चहान को जाता है।अभी 20 फरवरी को 42 वें वार्षिकोत्सव में शहर के सभी रामायण मंडल हाजिरी लगाएंगे। कर्फ्यू और सांप्रदायिक तनाव आदि के दौरान जब ड्यूटी से मुक्त नहीं हो पाते थे बस उन्हीं दिनों सुंदर कांड नहीं कर पाए। बाकी तो सतत 41 वर्षों से सिलसिला चल रहा है।जिन पुलिस कर्मियों की रात में ड्यूटी रहती है उनके लिए टीआई, सीएसपी भी कई बार सदाशयता दिखा देते हैं कि पाठ करने ही तो जा रहे हैं।

पितृ पर्वत पर होने वाली हनुमान जी की प्राण प्रतिष्ठा महोत्सव से पहले सवा लाख सुंदरकांड पाठ के लिए सभी रामायण मंडलों की भागीदारी तय करने का दायित्व कैलाश विजयवर्गीय और विधायक रमेश मेदोला ने बुंदेला को सौंप रखा है। पितृ पर्वत पर 14 फरवरी से सुबह 10 से रात 9 बजे तक विभिन्न मंडलों से जुड़ेकार्यकर्ता पाठ कर रहे हैं।

शुरुआती दौर में पांच मंडलों में दो मंडल पुलिसकर्मियों के 

शुरुआती दौर में पांच मंडल थे गांधीनगर मंडल, पाटनीपुरा मंडल, बाणगंगा मंडल, नेहरु नगर मंडल, पुलिसकर्मियों-परिजनों की भागीदारी वाले चौथी पल्टन रामायण मंडल की स्थापना स्व बालमुकुंद सिंह तोमर, दूसरी पल्टन मंडल की स्थापना राम निवास शुक्ला ने की है।अभी 100 से अधिक मंडल हैं। पुलिसकर्मी सुरेंद्रसिंह भदोरिया, कमल जाट, कैलाश जाट, कैलाश मिश्रा, विजय तिवारी, गेंदालाल पाल, रामकिशोर पांडे, प्रमोद दुबे ( संचालक), शरद, गोपी, लक्ष्मण सिंह राठौर, केशव राव खेड़कर, श्रीधर झरकर, कैलाश चौधरी, रामनारायण मालवीय, देवेंद्र सिंहराठौरविपिन,रिंकूराठौर,अभषेक सिंह आदि शनिवार, मंगलवार कोविभिन्न परिवारों में निशुल्क पाठ करते हैं।

हजारों घरों में तो विजयवर्गीय ही गा चुके हैं भजन 

अयोध्या कहे जाने वाले क्षेत्र क्रमांक 4से विधानसभा चुनाव लडने के दौरान कैलाश विजयवर्गीय ने एक सभामें कहा था कि वे इंदौर में 10 हजार घरों में भजन गा चुका हूं।मंडलों में भजन गायक केसाथ ही विजयवर्गीयकी जनप्रिय छवि बनाने वाले (स्व) रघुवीर सिंह चौहान गांधीनगर से साइकल पर आते थे और शहर में होनेवाले रामायण पाठ में एक भजन गाने जरूर पहुंचते थे।पत्रकार नारायण भूतड़ा बताते हैं मृत्युपर्यंत उन्होंने करीब50 हजार घरों में पाठ के दौरान भजन गाए हैं।

(पत्रकार कीर्ति राणा की रिपोर्ट) 

लोकल इंदौर का एप गूगल से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें... 👇 Get it on Google Play

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here