Twitter : ट्विटर के हीरो हैं हमारे पीएम, जीरो है हमारे एमपी ?

5 लाख वोट से जीतने वाले सांसद को मिलते है पोस्ट पर बस 15 -20 लाइक !

0
372

लोकल इंदौर २ अगस्त l (सुबोध खंडेलवाल)प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी अब ट्विटर पर दुनिया के सबसे लोकप्रिय राजनेता है. छोटे सेे शहर से लेेकर बड़े देशों की राजनीति का अखाडा बन चुके इस प्लेटफार्म पर मोदी महाराज के 7 करोड़  फॉलोअर है।अमेरिका के राष्ट्रपति बिडेन, फ्रांस के मैक्रोन और ब्रिटेन के पीएम बोरिस जॉनसन इन तीनों को मिला लिया जाए तो भी फॉलोअर और लोकप्रियता में मोदी इन सब पर भारी पड़ते है।

मोदी और उनकी टीम को इस प्लेटफार्म का इस्तेमाल करना आता है। वे इसका महत्व भी समझते है और सीमाएं भी इसीलिए वे ट्विटर पर हीरो है पर उनके कई सांसद अभी तक ये समझ नहीं पाए इसलिए वो यहां जीरो साबित हो रहे हैं। इंदौर के सांसद शंकर लालवानी भी इनमें से एक है।

  यह भी पढ़े : इंदौर के विकास की चिंता या दिखावे की राजनीति!

मार्च 2019 में ट्विटर पर शंकर लालवानी को सिर्फ 500 लोग फॉलो करते थे। लोकसभा प्रत्याशी
बनने के बाद अचानक रातोरात ये संख्या 35 हजार पर पहुंच गई।मोदी की प्रचंड लहर में वे 5 लाख मतों से चुनाव जीते। चुनाव जीतकर टेक्नोक्रेट, पोलाइट और आउटस्टैंडिंग लीडर की इमेज गढ़ने में जुटे लालवानी सोशल मीडिया पर फ्लॉप साबित हो रहें हैं।

साल में 3 बार जन्मदिन

5 लाख मतों से चुनाव जीतने वाले लालवानी पिछले 26 महीनों में ट्विटर पर सिर्फ 11 हजार लोगों का भरोसा जीत पाए है। फॉलोअर बढ़ाने के लिए उन्हें साल में 3 बार जन्मदिन मनाना पड़ा पर ये टोटका भी काम ना आया।सोशल मीडिया के जानकारों की माने तो फिलहाल उनके 46 हजार में से आधे से ज्यादा फॉलोअर फेक है इसीलिए उनकी ज्यादातर पोस्ट को औसतन 15 से 20 लाइक ही मिल पाते है।

उनका ज्यादातर समय सीएम और पीएम के ट्वीट्स को रिट्विट करने, जन्मदिन की बधाई और पुण्यतिथि पर श्रद्धांजलि और मीटिंग की जानकारी देने में बीतता है। सांसद  ट्विटर पर ना तो लोगों से संवाद करते है और ना उनकी शिकायतों का समाधान करने की पहल करते है।

क्या ऐसा कर  पायेंगे  सांसद ?

यदि वे इसका सही इस्तेमाल करें तो इसके माध्यम से लोगों की भावनाओं, अपेक्षाओं और समस्याओं को राज्य और केंद्र सरकार तक पहुँचाकर गुड़, इफेक्टिव और रिजल्ट ओरिएंटेड गवर्नेंस और पॉलिटिक्स की मोदीजी की अपेक्षा को पूरा कर सकते है। इससे उनका ग्राफ भी ऊंचा होगा, हाईकमान की नजरों में चढ़ने का मौका और जनता का स्नेह भी मिलेगा पर सवाल ये है कि क्या वे ऐसा कर सकेंगे ?

——————————————————————————————————

सुबोध खंडेलवाल  वरिष्ठ पत्रकार  है lआंकड़ों ,तथ्यों  और तर्कों के साथ अपनी बात  सामने रखने वाले खंडेलवाल नेशनल टीवी चैनल के इंदौर ब्यूरों रह चुके हैं l 

——————————————————————————————————

लोकल इंदौर का एप गूगल से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें... 👇 Get it on Google Play

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here