इंदौर में लव जिहाद के दो मामले : पुलिस ने किया प्रकरण दर्ज

0
669

लोकल इंदौर १९ जुलाई lइंदौर में एक ही दिन में लव जिहाद के दो मामले पुलिस के सामने आये है दोनों ही मामले में पुलिस ने प्रकरण दर्ज कर  लिया है lनईदुनिया के अनुसार नयापुरा निवासी 30 वर्षीय युवती की शिकायत पर एमजी रोड थाना पुलिस ने जाबिर फारुखी के खिलाफ दुष्कर्म, ब्लैकमेलिंग और धार्मिक स्वतंत्रता अधिनियम के तहत प्रकरण दर्ज किया है। आरोपित 10 साल से दैहिक शोषण कर रहा था। उसने जय नाम बताकर दोस्ती की थी। पीड़िता का अश्लील वीडियो भी बना लिया था। उस पर मतांतरण का दबाव बना रहा था। टीआइ डीवीएस नागर के मुताबिक, पीड़िता विजयनगर स्थित टेलीपरफार्मेंस कंपनी में काम करती थी। जाबिर फारुखी से इसी दौरान मुलाकात हुई थी। तब जाबिर ने नाम जय बताया। उसके हाथ में कड़ा व रक्षासूत्र भी बंधे थे। उसने युवती से दोस्ती कर ली और जूना रिसाला स्थित कंपनी में नौकरी लगवाने का प्रलोभन देकर नजदीकी बढ़ा ली। एक दिन जाबिर युवती के माता-पिता की अनुपस्थिति में घर आया और चाकू अड़ाकर शारीरिक संबंध बना लिए।आरोप है कि उसने युवती से रुपये भी छीन लिए और अश्लील वीडियो बनाकर ब्लैकमेल करने लगा। आरोपित ने कहा उसका नाम जाबिर फारुखी है। उसने युवती पर मतांतरण का दबाव भी बनाया और कहा शिकायत की तो तेजाब डाल दूंगा। पीड़िता ने थाना में आवेदन भी दिया, लेकिन कार्रवाई नहीं हुई।

रविवार को हिंदू जागरण मंच के पदाधिकारी सोहन जोशी, धीरज यादव व बेटी बचाओ प्रमुख प्रदीप नंदनवार, राजा कोठारी, सोनू कल्याणे के साथ युवती थाने पहुंची और घटना बताई। टीआइ ने कहा, आरोपित की तलाश में दबिश दी जा रही है।

दूसरा मामला राजेंद्र नगर थाना का हैlअग्निबाण अखबार के अनुसार  रात को राजेंद्र नगर थाना क्षेत्र में एक किशोरी  की रिपोर्ट  पर असलम  नामक युवक पर शोषण  का मामला दर्ज किया गया है। किशोरी एक बार तो असलम के साथ चली गई थी, लेकिन वह अपने दस्तावेज लेने घर आई तो परिजन उसे लेकर थाने आए। यह बात सामने आ रही है कि असलम की हकीकत उसकी बड़ी बहन ने घरवालों को बताई।

राजेंद्र नगर टीआई अमृता सोलंकी  ने बताया कि इलाके की रहने वाली 15 साल की किशोरी  की शिकायत पर असलम  नामक युवक के खिलाफ केस दर्ज किया गया है। दरअसल किशोरी  की गोलू नामक इंस्टाग्राम  यूजर से दोस्ती हुई थी। इंस्टाग्राम  की दोस्ती मोबाइल नंबर शेयर करने तक पहुंची। पहले तो युवक उसे खुद की अच्छाइयां और बुरी आदतें नहीं होने का बताते हुए माता-पिता के खिलाफ भडक़ाने लगा। बाद में उसने किशोरी  को कहा कि वह गोलू नहीं असलम है। एक दिन दोनों सामान लेकर घर से चले गए, लेकिन किशोरी   के दस्तावेज नहीं होने के चलते उन्हें लौटना पड़ा। किशोरी  घर पर जैसे ही दस्तावेज लेने पहुंची तो परिजन ने उसे रोक लिया और फिर पूरी बात पूछी। बाद में राजेंद्र नगर थाने में परिजन हिंदूवादी  पप्पू कोचले और अन्य के साथ पहुंचे और मामले की शिकायत दर्ज करवाई।

लोकल इंदौर का एप गूगल से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें... 👇 Get it on Google Play

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here