Indore :यह कौन सी खिचड़ी पक रही है…… गुस्ताखी माफ में नवनीत शुक्ला

0
62
राजनीति में युवा होने से ज्यादा बौद्धिक होना जरूरी होता है और इसीलिए पुराने नेताओं के अनुभव किसी भी नए युवा के लिए कई रास्ते खोलता है। यूं भी भाजपा में यदि आप राजनीति कर रहे हो तो हर कदम फूंक-फूंककर रखना पड़ता है और फूंकने के दौरान धुआं या धूल न उड़े, इसका भी ध्यान रखना पड़ता है, क्योंकि धुआं दिखते ही जादूगर आग की तलाश में लग जाते हैं और यदि कदम फूंकने में चूक जाओ तो फिर कोई भी मौका देखकर नेता को ही फूंक देता है। इन दिनों जहां पहले दीनदयालजी के द्वारे युवा नेता और भाजपा के नगर अध्यक्ष गौरव रणदिवे के आसपास गुड़ की भेली जैसा माहौल रहता था, तमाम कार्यकर्ता भिनभिनाते रहते थे, परंतु अचानक उनके आजीवन सहयोग निधि के पांच करोड़ी प्रेम ने सब गुड़-गोबर कर डाला। अब दीनदयालजी के द्वारे ऐसा सन्नाटा छाया हुआ है कि समझ नहीं आता कि आशा कार्यकर्ता का कार्यालय है या भाजपा का। दूसरी ओर आजीवन सहयोग निधि को लेकर दादा दयालू ने पहले से ही चूना डाल दिया है, जिसके चलते अब चवन्नी भी दो नंबर क्षेत्र से आने को तैयार नहीं है और चवन्नी नेता भी कार्यालय जाने को तैयार नहीं हैं। सौ और पचास रुपए वाले नेताओं की बात करना ही बेकार है। इधर बैठे-बिठाए राऊ में जीतू जिराती और मधु वर्मा के बीच ऐसा रायता फैला है कि समेटने में बड़ी कठिनाई होगी। गौरव बाबू को यहीं से विधानसभा लड़ने का भी सपना आ रहा है। अब बैठे-बिठाए यहां नया हवन शुरू हो गया है। इधर क्षेत्र क्रमांक चार में भी मालिनी गौड़ की बिना अनुमति चौसर जमाने की कोशिश के चलते यहां भी मोर्चा खुल गया है। अब ऐसे में भाजपा में एक और नया खेमा बनना शुरू हो गया है।
मोघे जी का नया अल्तुआ…
भाजपा के वरिष्ठ नेता कृष्णमुरारी मोघे की उम्र हो गई है या फिर होने जा रही है। यह हम नहीं कह रहे है। पिछले दिनों भाजपा कार्यकर्ताओं की बैठक में मोघे जी एक नया अलतुवा लेकर मौजूद रहे। उन्होंने कहा कि अपने क्षेत्रों में चल रहे काम अगले पंद्रह दिनों में तेजी से समाप्त करवा ले और भी कायाकल्प जो हो सकता है वह करवा ले इसके बाद उन्होंने जो कहा वह आश्चर्यजनक था। उन्होंने कहा दस तारीख को चुनाव की तैयारियों में मतदाता सूची का प्रकाशन होने जा रहा है। कोई चिंता की बात नहीं है मतदाता सूची के प्रकाशन के बाद भी इसमे नाम जोड़े जा सकते है। इस मामले में निर्वाचन कार्यालय के एक अधिकारी ने कहा कि देशभर में यह अभी तक तो संभव नहं हुआ है पर भाजपा की सरकार है और मोघे जी ताकतवर है वे चाहे तो एक ही नाम दो दो बार $$जुड़वा सकते है।
यह कौन सी खिचड़ी पक रही है…
दो दिन पूर्व लंबे समय बाद अचानक क्षेत्र क्रमांक चार की विधायक मालिनी गौड़ रंजीत बाबा के द्वारे पहुंचीं। इस दौरान कुछ अधिकारी भी यहां पहुंच चुके थे। प्रशासनिक बातचीत के साथ ही कुछ नई जुगलबंदी का भी मामला दिखाई दे रहा है। इसके उपरांत मालिनी गौड़ ने बाबा रंजीत के द्वारे पूजा की और वहां मौजूद पंडित-पांडवों ने उन्हें बड़ी खुशी के साथ जीत का आशीर्वाद भी दे दिया। अब यह समझ नहीं आया कि क्या गड़बड़ है, पर कुछ अलग से भी यहां हंडी पक रही है। ऐसा नहीं हो कि लोग पंगत का ही इंतजार करते रहें और जीमने का मौका ही नहीं मिले।
(इस आलेख में व्‍यक्‍त विचार लेखक की निजी अभिव्‍यक्‍ति और राय हैलोकल इंदौर डॉट कॉम से इससे कोई संबंध नहीं है)
लोकल इंदौर का एप गूगल से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें... 👇 Get it on Google Play

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here